Breaking News

वीथिका

अनामिका।एक के बाद एक वर्ष गुजरते जा रहे हैं और देखते ही देखते लगभग 70 वर्ष गुजर गए लेकिन भारतीय समाज अंग्रेजी के मोहपाश से मुक्त नहीं हो पाया है। हिन्दी को राष्ट्रभाषा के रूप...
Sep 14, 2017

अनुराग अमिताभ। दुष्यंत:स्याही नहीं खून उगला और सफों पे लिखा क्रांतिखण्डहर बचे हुए हैं इमारत नहीं रही,अच्छा हुआ कि सर पर कोई छत नहीं रही। जिन्हें कभी जिंदगी के रदीफ़ की फिक्र नहीं रही काफिये...
Sep 11, 2017

अरूण दीक्षित। सीबीआई की जांच के चलते भी हो गया व्यापम का "उपयोग"? बीजेपी सूत्रों के मुताबिक बीजेपी चीफ अमित शाह द्वारा भोपाल में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान...
Aug 21, 2017

मसीहोर से शैलेष तिवारी।भौतिकता की चकाचौंध में खोये हम, सिक्कों की खनखनाहट सुनते ही ईमान धर्म और ज़मीर सब कुछ बेचने को तैयार हो जाते हैं। लोभ और लालच हर काल में और परिस्थिति में...
Aug 16, 2017

मल्हार मीडिया भोपाल।मनुष्य की प्रवृत्ति ज्ञान पिपासु है। यह उसे किताबों से ही मिल सकता है। इसलिए कहा जा सकता है कि जब तक मानव जिंदा है तब तक पुस्तकें जीवित रहेंगी। भले ही समय...
Aug 12, 2017

मधु गुप्ता।र्स्त्री और पुरुष के प्रेम मे फर्क होता है अपरिचित में एक आकर्षण है, क्योंकि उसके प्रेम में कोई कारण नहीं होता जब पुरुष किसी स्त्री को प्रेम करता है, तो उसका प्रेम...
Aug 11, 2017

रजनीश जैन।नीचे की एक भी तस्वीर साधारण नहीं है। यह स्टेशन, पटरियों पर मरा पड़ा शख्स, अदालत के कटघरे में दिख रहे दो 'चोर' और यदि स्टेशन पर दिख रही ट्रेन को पठानकोट एक्सप्रेस...
Aug 05, 2017

वीरेंदर भाटिया।बात उन दिनों की है जब मैं स्कूली छात्र था। गांव में सरकारी स्कूल की पढ़ाई का स्तर बहुत अच्छा था। हमारे सभी शिक्षक बेहद कुशल और ज्ञानवान थे। मुझे हिंदी अध्यापक ज्यादा पसंद...
Aug 01, 2017

पुण्य प्रसून बाजपेयी।मालवा के पठार की काली मिट्टी और लुटियन्स की दिल्ली के राजपथ की लाल बजरी के बीच प्रभाष जोशी की पत्रकारिता! ये प्रभाष जोशी का सफर नहीं है, ये पत्रकारिता की वह...
Jul 31, 2017

   रघुवर दयाल गोहिया। मध्यप्रदेश के सीहोर में लड़ी गई थी आजादी की पहली लड़ाई, मालवा की हल्दी घाटी भी कहते हैं लोग।  ब्रिटिश हुकूमत के खिलाफ देशभर में आजादी के मतवालों की...
Jul 23, 2017