Breaking News

वीथिका

राकेश कायस्थ।उन दिनों पत्रिकाएं चाहे जितनी भी पुरानी हो जायें संजोकर रखी जाती थी। घर में कई पत्रिकाएं आती थीं लेकिन मेरे मतलब की पत्रिका सिर्फ धर्मयुग हुआ करती थी, क्योंकि उसमें ढब्बूजी के...
Jun 04, 2018

जयशंकर गुप्ता।अभी—अभी एक अत्यंत दुखद और अंदर से हिला देनेवाली सूचना मिली है। समाजवादी सोच के वरिष्ठ पत्रकार-संपादक राजकिशोर जी का आज सुबह 9.30 बजे निधन हो गया। पिछले कुछ दिनों, 21 मई से...
Jun 04, 2018

मल्हार मीडिया भोपाल।मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल के चर्चित साहित्यकार अरुण अर्णव खरे के कहानी संग्रह भास्कर राव इंजीनियर तथा व्यंग्य संग्रह “हैश टैग और मैं” का लोकार्पण दो जून को प्रसिद्ध साहित्यकार पद्म श्री डॉ...
Jun 01, 2018

प्रवीण दुबे। हमारे बड़े भाई जैसे दोस्त Deepak Tiwari जी की नई किताब राजनीतिनामा मध्यप्रदेश 2003—2018 भाजपा युग आई है। हैदराबाद मीटिंग में जा रहा था तो साथ ले गया, आते-जाते वक़्त और वहां जितना...
Jun 01, 2018

अरूण दीक्षित।नरेंद्र भाई आप सिर्फ इसलिये लिखा हुआ कागज हाथ में नही रखते क्योंकि आपको राहुल गांधी की बिरादरी का मान लिया जाएगा! लेकिन इस चक्कर में हर दूसरे दिन एक झूठ परोस देते...
May 05, 2018

सत्येंद्र प्रसाद श्रीवास्तव।आधुनिक हिन्दी व्यंग्य में राकेश कायस्थ ने अपनी एक अलग और मुकम्मल पहचान बनाई है। आज जब व्यंग्य के नाम पर इतना कूड़ा लिखा जा रहा है कि इस विधा पर संकट के...
Apr 24, 2018

राकेश कायस्थ।यह रिश्ता आम महानगरीय रिश्तों से थोड़ा सा अलग है। बेशक मिलना-जुलना रोज़ का ना हो लेकिन पड़ोस में रहने वाली महिला मेरे बच्चों की दादी हैं। उनके अपने बच्चे विदेश में रहते...
Apr 24, 2018

बृजेश राजपूत।सच कहें तो पहले तो भरोसा ही नहीं हुआ। क्या ये सब संभव होगा जब सागर विश्वविद्यालय के पत्रकारिता विभाग के 34 साल के सहपाठी एक जगह पर मिलेंगे। इन सालों में कितना...
Apr 23, 2018

मनोज कुमार।अंग्रेजी के पब्लिक रिलेशन को जब आप अलग अलग कर समझने की कोशिश करते हैं तो पब्लिक अर्थात जन और रिलेशन अर्थात सम्पर्क होता है जिसे हिन्दी में जनसम्पर्क कहते हैं. रिलेशन अर्थात...
Apr 21, 2018

मनोज कुमार।वैश्विक परिदृश्य में हर उत्सव के लिए एक दिन निश्चित किया गया है। इस क्रम में रंगमंच के लिए मार्च माह की 27 तारीख निश्चित है। यह दिन विश्व रंगमंच के नाम समर्पित...
Mar 26, 2018