कलेक्टर उल्टे नहीं लटकेंगे, सरकार ही उलटी लटक गई

खास खबर            Aug 12, 2017


रविंद्र जैन।
मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 21 जुलाई को भोपाल में प्रदेश भाजपा कार्यालय में कार्यसमिति की बैठक को संबोधित करते हुए प्रदेश के कलेक्टरों को चेतावनी दी थी कि अगर एक महीने में सभी नामांतरण, बंटवारों और नपती के प्रकरणों का निपटारा नहीं हुआ तो वे कलेक्टरों को उल्टा लटका देंगे। मुख्यमंत्री की इस बात की पूरे प्रदेश में तीखी प्रतिक्रिया हुई थी।

मुख्यमंत्री की इस चेतावनी के बाद प्रदेश के कलेक्टरों ने राज्य सरकार को ही आईना दिखा दिया है। तहसीलदारों नायब तहसीलदारों व पटवारियों के कैडर व्यू की बात बताई और लगभग 15000 पदों पर भर्ती के प्रस्ताव भेज दिए हैं। इससे राज्य सरकार को दिन में तारे नजर आने लगे हैं। यद्यपि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सभी पदों को भरने की स्वीकृति दे दी है। राजस्व महकमे में पांच आईएएस अफसरों की नियुक्ति कर दी गई है। सभी अधिकारी मुख्यमंत्री की मंशानुसार काम करने में रात-दिन लगे हैं। सभी पदों के प्रस्ताव कैबिनेट में भेजने की कवायद शुरू हो गई है।

तहसीलदार : 
अभी तक स्वीकृत पद : 519
नए पदों की स्वीकृति : 249
वर्तमान में कार्यरत : 225
रिक्त पद : 543
नोट : तहसीलदारों के पदों पर भर्ती पदोन्नति में आरक्षण के मामले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद की जाएगी।

नायब तहसीलदार : 
अभी तक स्वीकृत पद : 620
नए पदों की स्वीकृति : 947
वर्तमान में कार्यरत : 371
कुल रिक्त पद : 1196
नोट : पूर्व में स्वीकृत 620 पदों में से 249 रिक्त पदों के लिए मप्र लोक सेवा आयोग में परीक्षा हो चुकी है। भर्ती प्रक्रिया चल रही है। नए स्वीकृत 947 पदों की भर्ती के लिए भी मप्र लोक सेवा आयोग को पत्र भेजने की तैयारी है।

पटवारी : 
अभी तक स्वीकृत पद : 11622
नए पदों की स्वीकृति : 7398
वर्तमान में कार्यरत : 9894
कुल रिक्त पद : 9126

नोट : इनके पदों की भर्ती के लिए व्यापमं को पत्र भेजे जाने की तैयारी है।

इसके अलावा डाटा आपरेटर के 850 स्वीकृत पदों पर संविदा आधार पर नियुक्ति के लिए कलेक्टरों को निर्देश दिए गए हैं। डाटा आपरेटरों के 2000 नए पद संविदा पर भर्ती के लिए मंजूर करने की प्रक्रिया चल रही है।
सभी तहसीलदार व नायब तहसीलदारों के लिए एक डाटा आपरेटर, एक रीडर व एक भृत्य की भी भर्ती होनी है।

फेसबुक वॉल से

 



इस खबर को शेयर करें


Comments