Breaking News

राष्ट्रीय प्रतीक का अपमान! जय स्तंभ से गिर रहे अशोक चक्र के टुकड़े, केसरिया पट्टी गायब

खास खबर            Jun 01, 2018


उमरिया से सुरेंद्र त्रिपाठी।

मध्यप्रदेश के उमरिया जिले में देश आज़ाद होने के बाद आन–बान–शान का प्रतीक बनाया गया जय स्तम्भ इन दिनों दुर्गति का शिकार है और राष्ट्रीय प्रतीक अशोक चक्र का लगातार अपमान किया जा रहा है।

अशोक चक्र टूटकर जमीन पर गिर रहा है और उसके टुकड़े पैरों के नीचे रौंदे जा रहे हैं पैरों से। इसमें से केसरिया पट्टिका भी गायब है।

गौरतलब है कि देश आजाद होने के बाद उमरिया नगर के मध्य में शौर्य का प्रतीक जय स्तम्भ स्थापित किया गया था। राष्ट्रीय ध्वज के तीनो रंगों को अपने आप में समेटे चारो तरफ अशोक चक्र से सुशोभित जय स्तम्भ इन दिनों नगर पालिका की उदासीनता के चलते दुर्गति का शिकार हो गया है।

केसरिया रंग की पट्टिका टूट कर गायब है वहीं सबसे बड़ी बात तो यह है कि अशोक च भी टूट कर गिर गए हैं और लोगों के पैरों तले रौंदे जा रहे हैं। किसी ने उसे उठाकर बाउन्ड्री के भीतर रख दिया।

इस मामले में कांग्रेस नेता और बार एशोसियेशन के अध्यक्ष पुष्पराज सिंह का कहना है कि स्वतन्त्रता के बाद स्वराज के नाम से जय स्तम्भ का निर्माण कराया गया था और उस जय स्तम्भ में बनाया गया अशोक चक्र राष्ट्रीय चिन्ह है और उसकी उतनी ही मर्यादा है जितना राष्ट्रीय ध्वज के चिन्ह की मर्यादा है।

यहाँ पर जिस तरह से जय स्तम्भ में अशोक चक्र गिर रहा है यह एक प्रकार से मान–अपमान और राष्ट्रीय अपमान का मामला है यहाँ कि जो बैठी है भारतीय जनता पार्टी की सरकार और जिला प्रशासन को इस बात को ध्यान में रखना चाहिए कि जो राष्ट्रीय चिन्ह और ध्वज है।

इनकी सुरक्षा की जाय, यदि ऐसा हो रहा है, ऐसा दिखा भी है और बताया भी गया है यह राष्ट्रीय अपमान की श्रेणी में आता है और इसके लिए जो भी व्यक्ति जिम्मवार है उसके खिलाफ कार्यवाही होनी चाहिए। उन्होंने कहा हम इस मामले को उचित फोरम में उठाएंगे और कार्यवाही की मांग करेंगे।

इस मामले में जब नगर पालिका की सी एम ओ हेमेश्वरी पटले का कहना है कि हम यह कोशिश करेंगे कि अपनी सौन्दर्यीकरण के समय दोबारा राष्ट्रीय प्रतीक को स्थापित कर दिया जाये

 


Tags:

उमरिया अशोक-चक्र-का-अपमान

इस खबर को शेयर करें


Comments