Breaking News

NCRB रिपोर्ट:राज्यों में अपराधों की होड़, कोई रेप में नंबर 1 कोई हत्या में,महिला-दलित अपराध बढ़े

खास खबर            Nov 30, 2017


मल्हार मीडिया ब्यूरो नई दिल्ली ।
राष्ट्रीय अपराध रिकार्ड ब्यूरो के जारी आंकड़े बताते हैं कि पूरे देश में कई राज्यों में अपराधों और महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराधों में कोई किसी से कम नहीं है। ऐसा लगता है कि अपराधों के मामलों में राज्य एक दूसरे से होड़ करते दिखते हैं। इतना ही नहीं पिछले एक साल में दलितों के खिलाफ होने वाले अपराधों में भी बढ़ोत्तरी हुई है।

राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) ने अपराध के ताजा आंकड़ों को जारी करते हुए कहा है कि पिछले तीन सालों में देश के अंदर हत्या, दंगों, लूटपाट और डकैती के मामलों में कमी आई है।

केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने गुरुवार को 'भारत में अपराध-2016' के रिपोर्ट जारी किए हैं। जिसमें उत्तर प्रदेश के अंदर हत्या और महिलाओं के खिलाफ अपराध में वृद्धि दर्ज की गई है।
रिपोर्ट में जहां एक ओर देश में हत्या और दंगों के मामले घटे हैं, वहीं दूसरी ओर देश के कई राज्यों में दलितों पर अत्याचार और अपराध के मामले भी बढ़े हैं।

रिपोर्ट के अनुसार, साल 2016 में देश के अंदर हत्या के मामले 5.2% तक कमी हुई है। साल 2015 (32,127) के मुकाबले हत्या के मामले 2016 में 30,450 दर्ज हुए।
वहीं दंगों के मामले में भी 5% की गिरावट हुई है, जहां 2015 में 65,255 केस दर्ज हुए थे, वहीं 2016 में 61,974 मामले दर्ज किए गए हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक देश में लूटपाट के मामलों में पिछले साल 11.8% की कमी हुई है, वहीं डकैती के मामले भी 4.5% तक घट गए। 2015 में डकैती के मामले 3,972 थे, लेकिन 2016 में 3,795 मामले दर्ज किए गए।
महिलाओं के खिलाफ अपराध

हालांकि साल 2015 के मुकाबले 2016 में महिलाओं के खिलाफ अपराध के मामले में बढ़ोत्तरी हुई है। 2015 में 3,29,243 मामले दर्ज हुए थे, वहीं साल 2016 में यह बढ़कर 3,38,954 हो गए। देश में बलात्कार के मामले 2015 (34,651) के मुकाबले 12.4% बढ़कर 2016 में 38,947 दर्ज किए गए।

दलितों के खिलाफ अपराध
मौजूदा सरकार में अनुसूचित जातियों और जनजातियों के खिलाफ अत्याचार और अपराध के मामलों में पिछले साल बढ़ोतरी हुई। 2016 में अनुसूचित जातियों के खिलाफ अत्याचार/अपराध की संख्या 5.5% बढ़कर 40,801 हो गई, जबकि 2015 में इसकी संख्या 38,670 थी।
वहीं अनुसूचित जनजातियों के खिलाफ भी अपराध के मामलों में 4.7% की बढ़ोतरी आई है। साल 2015 (6,276) के मुकाबले यह बढ़कर 6,568 हो गई।

रिपोर्ट के मुताबिक कुल दर्ज 48,31,515 अपराधों में भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) के तहत 29,75,711 मामले और विशेष एवं स्थानीय कानूनों के तहत 18,55,804 मामले साल 2016 में दर्ज किए गए, जो कि साल 2015 के मुकाबले कुल अपराधों का 2.6% ज्यादा है।

राज्यों में हालात
उत्‍तर प्रदेश की सरकारें भले ही राज्‍य में अपराध कम होने का दंभ भरती रही हों लेकिन राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) ने अपराध पर 2016 की जो रिपोर्ट पेश की है वह काफी डराने वाली है। राज्यों में उत्तर प्रदेश पिछले साल हत्या के दर्ज मामलों में सबसे अव्वल स्थान पर आया है। देश के हत्या के कुल दर्ज मामलों का 16.1% (4,889) यूपी में है। वहीं दूसरे नंबर पर बिहार, 2,281 (8.4%) का स्थान है।

महिलाओं के खिलाफ अपराध के मामले में भी यूपी सबसे ऊपर है, जहां कुल दर्ज अपराध का 14.5% (49,262) मामला 2016 में दर्ज किया गया। इसके बाद पश्चिम बंगाल में कुल अपराध के (9.6%) 32,513 मामले दर्ज किए गए।

वहीं रिपोर्ट के अनुसार मध्य प्रदेश 4,882 (12.5%) और उत्तर प्रदेश 4,816 (12.4%) में सबसे ज्यादा बलात्कार के मामले दर्ज किए गए हैं। उसके बाद महाराष्ट्र 4,189 (10.7%) का स्थान तीसरे नंबर पर है। बता दें कि इन तीनों राज्यों में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की सरकारें हैं।

साल 2016 में विभिन्न अपराधों के लिए कुल 37,37,870 लोगों को पूरे देश से गिरफ्तार किया गया, जबकि 32,71,262 लोगों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की गई। 7,94,616 लोगों को दोषी पाया गया और 11,48,824 लोगों को छोड़ दिया गया।


महिला अपराध में 2.9 प्रतिशत की बढ़ोत्‍तरी
इसी के साथ महिला अपराध में भी बढ़ोत्‍तरी दर्ज की गई है। रिपोर्ट के मुताबिक साल 2016 में 2015 की तुलना में महिला अपराध में 2.9 प्रतिशत का इजाफा हुआ है। उत्‍तर प्रदेश में पूरे भारत से 14.5 प्रतिशत (49,262) महिला अपराध से जुड़े मामले दर्ज किए गए हैं। इसके बाद पश्‍चित बंगाल का नंबर है, जहां पर महिला अपराध के 9.6 प्रतिशत (32513) मामले दर्ज किए गए हैं. वर्ष 2015 के मुकाबले देश में बलात्कार की घटनाएं 12.4 फीसदी बढ़ गईं। आंकड़ों के मुताबिक बलात्कार के मामले सबसे ज्यादा मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश में हुए। ऐसी कुल घटनाओं में से 12.5 फीसदी (4,882 मामले ) मध्यप्रदेश में , 12.4 फीसदी (4,816 मामले) उत्तर प्रदेश में और 10.7 फीसदी यानी 4,189 मामले महाराष्ट्र में हुए।

बलात्कार के मामलों में भी बढ़ोत्‍तरी दर्ज की गई है। साल 2015 में जहां रेप के 34651 मामले बलात्‍कार के दर्ज किए गए थे वहीं साल 2016 में इसमें 12.4 प्रतिशत की बढ़ोत्‍तरी दर्ज हुई और 38947 मामले दर्ज किए गए।

मध्‍यप्रदेश में बलात्‍कार के सबसे ज्‍यादा मामले दर्ज किए गए हैं. यहां पर 12.5 प्रतिशत मामलों के साथ 4882 मामले दर्ज किए गए जबकि उत्‍तर प्रदेश में 12.4 प्रतिशत मामलों के साथ 4816 रेप के मामले उत्‍तर प्रदेश में दर्ज किए गए हैं। इसके बाद महाराष्‍ट्र है यहां 10.7 प्रतिशत मामले बलात्‍कार के मामले दर्ज किए गए। यहां पर 4189 मामले दर्ज किए गए हैं।

 


Tags:

उप्र दंगे बिहार मप्र राष्ट्रीय-अपराध-रिकार्ड-ब्यूरो

इस खबर को शेयर करें


Comments