Breaking News

लाखों के शौचालय घोटाले के दोषी सरपंच-सचिवों पर कार्यवाही क्यों नहीं?

समाचार            Jan 21, 2019


रहली सागर से मुकेश अग्निहोत्री।
मध्यप्रदेश में निजाम बदल गया मगर कुछ मामलों में सरकार की नीम खामोशी पहली सरकार की ही तरह है। मसलन सागर की 15 पंचायतों में हुय लाखों के शौचालय घोटाले को ही लें। जिसके दोषी सरपंच—सचिव आज भी निश्चिंत घूम रहे हैं।

प्रधानमंत्री के ड्रीम प्रोजेक्ट स्वच्छ भारत मिशन अभियान को मध्यप्रेश के सागर जिले के अंतर्गत आने वाले रहली ब्लाक में विभाग के अधिकारी,कर्मचारी और जनप्रतिनिधी ही असफल करने में जुटे हुए हैं।

निजी लाभ के लिए मैदानी अमले सहित संबंधित अधिकारियो के द्वारा जमकर घोटाला किया गया है। 15 पंचायतो में लाखो का घोटाला प्रमाणित होने के वाद भी दोषियों पर कार्यवाही नहीं की जा रही है।

एक साल से ठंडे बस्ते में कार्यवाही
लगभग दो वर्ष पूर्व ब्लॉक की लगभग 20 ग्राम पंचायतो में शौचालयो के निर्माण में लाखो रुपयों का घोटाला जाँच के वाद उजागर हुआ था।उक्त पंचायतो के सरपंचो,सचिवो को दोषी पाये जाने पर जनपद पंचायत द्वारा की कई बार नोटिस जारी कर राशि जमा करने निर्देश दिए गए थे परंतु दोषी सरपंचो,सचिवो के द्वारा राशि जमा नहीं कराई गई तब जनपद सीईओ द्वारा प्रकरण तैयार कर दोषी सरपंचो,सचिवो पर धारा 92 की कार्यवाही का प्रस्ताव एस डी एम को भेजा गया था।

एस डी एम द्वारा दोषी सरपंचो,सचिवो को गबन की राशि जमा करने नोटिस जारी किये गए थे जिनका परिपालन नहीं किया गया जिसके परिपेक्ष में सरपंचो,सचिवो को ग्रिफ्तारी वारंट जारी हुए परन्तु न तो राशि ही जमा हुई और न ही गिरफ्तारी को अंजाम दिया गया और यहीं से मामले ठंडे बस्ते में चले गए।

लगभग एक साल से गबन के मामले ठंडे बस्ते में पड़े है ंऔर शासन की लाखों रूपये की राशि डकारने वाले सरपंच सचिव निश्चिन्त हैं।

इकलौते सरपंच,सचिव के खिलाफ हुई एफआईआर
शौचालय घोटाले के मामले में ग्राम पंचायत जरिया खिरिया के सरपंच,सचिव पर गढ़ाकोटा थाने में एफ आई आर दर्ज की गई थी।समान आरोप में बाकी सरपंचो,सचिवो पर कार्यवाही नहीं किया जाना संदिग्ध और कही न कही राजनीति से प्रेरित है।


एस डी एम की कार्यवाही का ग्राम पंचायत गुन्जौर के इकलौते सरपंच पर ही असर हुआ था जिन्होंने नोटिस मै उल्लेखित पूरी राशि बगैर किसी आपत्ति जताये जमा कराई थी जबकि बाकी दोषियों पर एस डी एम की कार्यवाही असरहीन रही।

इन पंचायतों में हुआ घोटाला
ब्लाक की करीब 15 पंचायतो के सरपंचो पर गबन का आरोप है इन में ग्राम पंचायत सागौनी बुंदेला,मुहली,रमखिरिया,हरदुआ,खेराना,चौका(गढ़ाकोटा),बोरई,बसारी,उदयपुरा,छपरा,पटना बुजुर्ग,तिखी,धनगुआ आदि शामिल है इन पंचायतो पर कार्यवाही लंबित है।

फेसबुक वॉल से

 


Tags:

शौचालय-घोटाले-के-दोषी-सरपंच-सचिवों-पर-कार्यवाही-क्यों-नहीं

इस खबर को शेयर करें


Comments