Breaking News

रजनी स्टाइल में डिजिटल धारावी, क्लीन धारावी काला

पेज-थ्री            Jun 08, 2018


डॉ. प्रकाश हिंदुस्तानी।
रजनीकांत की फिल्म काला मुंबई की उस जगह की कहानी है, जहां कभी एशिया की सबसे बड़ी झोपड़पट्टी धारावी हुआ कराती थी। (अब धारावी बदल चुकी है) . इस फिल्म में स्वच्छ भारत की तर्ज पर 'क्लीन एंड प्योर धारावी' तथा डिजिटल इंडिया की तर्ज पर डिजिटल धारावी दिखाया गया है।

रजनीकांत तमिलनाडु से धारावी आकर बसे डॉन कारीकरन बने हैं, जो फिल्म में काला के नाम से मशहूर हैं। कभी धारावी में सचमुच काला सेठ नामक डॉन हुआ करता था, जो गुड़वाला सेठ भी कहलाता था।

रजनीकांत दक्षिण भारतीय फिल्मों के सुपर-108 हैं. सुपरमैन के भी बाप जो काम सुपरमैन, बैटमैन, रोबोकॉप, स्पाइडरमैन,फैंटम, हेलबॉय, आयरनमैन, पैडमैन और ब्रेडमैन जैसे तमाम मैन मिलकर भी नहीं सोच सकते, रजनीकांत उसे पल भर में करके दिखा सकते हैं।

इसीलिए उनकी फिल्म लगने के पहले उनके प्रशंसक गाजे-बाजे के साथ फिल्म देखने सिनेमाघर जाते हैं। उनके पोस्टरों को दूध से नहलाते हैं। रजनीकांत के प्रशंसकों के लिए और बच्चों के लिए है फिल्म काला।

काला रजनीकांत की पुरानी फिल्म कबाली की ही तरह है। कबाली में रजनीकांत मलेशियाई बस्ती के डॉन थे, इसमें मुंबई की धारावी बस्ती के ऐसे डॉन बने हैं, जिनका नाम ही काफी होता है। रजनीकांत को खुद लड़ने की ज़रूरत कम ही पड़ती है। एक बार ही वे लड़ते हैं और केवल छाते से दर्जनों दुश्मनों के छक्के छुड़ा देते हैं।

काला की शुररूआत एनिमेटेड दृश्यों से होती है, जिसमें बताया जाता है कि मुंबई में झोपड़पट्टी और स्कायक्रेपर्स की अंदरूनी कहानी क्या है! पहले भी इस मुद्दे पर कई फिल्मे बन चुकी हैं जब झोपड़पट्टी की जमीन पर पर बड़े बड़े बिल्डरों की निगाहें होती हैं।

उन बिल्डर्स को नेताओं का संरक्षण होता है और वे झोपडपट्टी के दादाओं की मदद से झोपड़ियों का सफाया करते हैं। इसमें रजनीकांत झोपड़पट्टी के ऐसे दादा हैं, जिनको लोग भगवान की तरह पूजते हैं।

काला में नाना पाटेकर ने रजनीकांत को टक्कर दी है। नाना कहीं भी कमज़ोर नहीं पड़े। हुमा कुरैशी खानापूरी के लिए हैं।

कहानी में नयापन नहीं है, लेकिन रजनीकांत के रूप में नयापन है। निर्देशक पा. रंजीत ने कई नए दृश्यों को गढा है। इंटरवल तक कहानी हलके फुल्के दृश्यों से भरी है। फिल्म का अंत दर्शकों की कल्पना से अलग निकलता है।

रजनीकांत की दूसरी फिल्मों की तरह है। रजनी स्टाइल ! आपको रजनीकांत का अंदाज़ पसंद हो तो मज़ा आएगा।

 

 


Tags:

movie-review-kaala

इस खबर को शेयर करें


Comments