पकौड़ा पॉलिटिक्स के हल्ले के बीच कांग्रेस का अनूठा प्रयोग टैलेंट सर्च

राजनीति            Feb 07, 2018


ममता यादव।
इसमें कोई दो राय नहीं कि सोशल मीडिया स्ट्रेटजी में कांग्रेस भाजपा से एक नहीं कई कदम पीछे रही है। मगर अब देर आयद दुरूस्त आयद की तर्ज पर बकायदा प्लानिंग के साथ इस पर न सिर्फ ध्यान दे रही है बल्कि उस पर काम भी कर रही है। इसी का नतीजा है कि गुजरात विधानसभा चुनाव में कांग्रेस जीत के करीब अच्छे-खासे आंकड़े के साथ पहुंची।

अब कांग्रेस एक तीर से दो निशाने साधने के प्रयास में एक नया प्रयोग कर रही है टैलेंट सर्च के माध्यम से। एक तो युवाओं को पार्टी की ओर आकर्षित करना और दूसरा गुजरात चुनाव में जीत करीब जाने से बाल-बाल बची पार्टी को मध्यप्रदेश में मजबूत करना और विधानसभा चुनावों में जीत के लिये तैयारी करना।

इस टैलेंट सर्च की शुरूआत गुजरात से ही हुई थी और अब ये मध्यप्रदेश में होने जा रहा है। दिलचस्प और गौर करने लायक बात यह है कि मध्यप्रदेश में जैसे—जैसे विधानसभा चुनाव नजदीक आ रहे हैं गुजरात ईकाई के नेताओं की सक्रियता यहां बढ़ाई जा रही है। पहले दीपक बावरिया को प्रदेश का प्रभार सौंपा गया अब गुजरात कांग्रेस प्रवक्ता मनीष जोशी को टैलेंट सर्च की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

मनीष जोशी ने आज भोपाल स्थित प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में टैलेंट सर्च की जानकारी देते हुये बताया कि इसके माध्यम से ब्लॉक लेबल से लेकर प्रदेश स्तर तक प्रवक्ता और कार्यकर्ताओं की टीम बनाने का प्रयास किया जायेगा।

श्री जोशी ने बताया कि इस टैलेंट सर्च में हिस्सा लेने के लिये अभी तक 911 आवेदन आॅनलाईन मिल चुके हैं। जो नहीं आवेदन नहीं कर पाये हैं वे तत्काल भी आवेदन फॉर्म भरकर इसमें हिस्सा ले सकते हैं।

गुजरात कांग्रेस के ही जयराज सिंह परमार ने बताया कि टैलेंट सर्च का उद्देश्य ऐसे लोगों को पार्टी से जोड़ना है जो उसकी विचारधारा से सहमति रखते हैं। उन्होंने बताया कि इसके जरिये आम आदमी के लिए प्लेटफार्म तैयार किया जायेगा। इस टैलेंट सर्च में ऐसे लोगों का सिलेक्ट किया जायेगा जो अच्छे वक्ता हैं, जिनकी अपने क्षेत्र में पकड़ है या जो सोशल मीडिया पर बेहतर आईडिया दे सकते हैं।

यूं देखा जाये तो प्रवक्ता से लेकर ग्राफिक्स डिजाईनर और आईटी तक के युवाओं के लिये कांग्रेस के इस टैलेंट सर्च में शामिल होने का मौका है मगर यह पूछे जाने पर कि क्या इन युवाओं को वेतन भी दिया जायेगा श्री जोशी इस सवाल को टाल गये।

बहरहाल पकौड़ा पॉलिटिक्स के हल्ले के बीच कांग्रेस का टैलेंट सर्च युवाओं को कितना आकर्षित करता है यह तो भविष्य में देखने लायक होगा लेकिन फिलहाल ये अपने तरह का अनूठा प्रयोग कांग्रेस को नये तरीके से चर्चा में लायेगा इसमें कोई शक नहीं है।

 


Tags:

कांग्रेस-का-टैलेंट-सर्च

इस खबर को शेयर करें


Comments