गुजरात में महिलाओं को न्याय क्यों नहीं मिलता - राहुल गांधी

राजनीति            Dec 03, 2017


मल्हार मीडिया ब्यूरो।

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने गुजरात विधानसभा चुनाव के मद्देनजर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से रविवार को अपना पांचवां सवाल पूछते हुए राज्य में महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराध, उनकी सुरक्षा, स्वास्थ्य एवं शिक्षा की स्थिति पर चिंता जताई। उन्होंने मोदी पर गुजरात की महिलाओं से झूठे वादे करने का आरोप लगाया। गुजरात में 22 सालों से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सत्ता में है और यहां महिलाओं के खिलाफ अपराधों में सजा की दर सिर्फ तीन फीसदी है।

राहुल ने विभिन्न केंद्रीय एजेंसियों और संस्थानों के रिकॉर्ड का हवाला देते हुए कहा कि गुजरात मानव तस्करी में तीसरे, महिलाओं पर एसिड हमलों में पांचवें और नाबालिग बच्चियों सें बलात्कार के मामले में 10वें स्थान पर है।

उन्होंने मोदी से पूछा कि राज्य में महिलाओं की साक्षरता दर 2001 में 70 प्रतिशत से घटकर 2011 में 57 प्रतिशत क्यों रह गई। मोदी अक्टूबर 2001 से मई 2014 तक गुजरात के मुख्यमंत्री रहे।

राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा, "महिलाओं को न्याय क्यों नहीं मिलता। महिलाओं के खिलाफ आपराधिक घटनाओं को अंजाम देने वाले अभियुक्तों में से केवल 3 प्रतिशत को ही दोषी ठहराया जाता हैं।"

राहुल गांधी ने कहा, "गुजरात के अहमदाबाद और सूरत जैसे दो सबसे महत्वपूर्ण शहर देश में महिलाओं के खिलाफ हाने वाले अपराध के मामले में शीर्ष 10 शहरों में शुमार हैं।"

उन्होंने कहा, "गुजरात बालिका शिक्षा में 20वें स्थान पर क्यों हैं।"

राहुल गांधी ने नौ दिसंबर तक राज्य में विधानसभा होने तक हर रोज मोदी से एक सवाल पूछने के वादे के तहत सवाल पूछा।

उन्होंने प्रधानमंत्री से राज्य में महिलाओं के स्वास्थ्य के मुद्दों के बारे में भी पूछा। उन्होंने कहा कि राज्य में मातृ मृत्यु दर बढ़कर 85 हो गई है, जिससे गुजरात एमएमआर में कमी वाले 15 राज्यों में 11 स्थान पर पहुंच गया है।

राहुल गांधी ने ट्वीट किया, "राज्य में नवजात बच्चों की 67 फीसदी माताएं सरकारी एम्बुलेंस से निशुल्क परिवहन की सुविधा से वंचित क्यों हैं?"

राहुल गांधी ने पूछा, "राज्य की 55 प्रतिशत महिलाओं में एनीमिया से ग्रसित क्यों हैं?"



इस खबर को शेयर करें


Comments