अनुदान माँगों के जवाब में बोले मंत्री आर्य, आनंद विभाग में 46 हजार 47 स्वयंसेवक अवैतनिक

प्रदेश लार्इव            Mar 13, 2018


मल्हार मीडिया भोपाल।
कार्यभारित कर्मचारियों को शासकीय कर्मचारियों की तरह लाभ देने का प्रयास

इंदौर-भोपाल हवाई-अड्डे पर अंतर्राष्ट्रीय सुविधाओं में वृद्धि के प्रयास निरंतर जारी

आनंद विभाग के तहत ईशा फाउण्डेशन से एमओयू

मध्यप्रदेश विधानसभा में आज सामान्य प्रशासन, विमानन एवं आनंद राज्य मंत्री लाल सिंह आर्य ने अपने विभाग की अनुदान माँगों पर हुई चर्चा के जवाब में कहा है कि राज्य शासन ने अनुसूचित जाति-जनजाति एवं अन्य पिछड़ा वर्ग के बैकलॉग पदों की भर्ती के लिये चलाये गये विशेष भर्ती अभियान में 59 हजार 857 बैकलॉग पदों पर भर्ती की है।

इसी प्रकार विशेष पिछड़ी जनजातियों में कुल 695 व्यक्तियों को नियुक्ति प्रदान की गई है। साथ ही गृह विभाग के आरक्षक एवं राजस्व विभाग के पटवारी कार्यपालक पद पर विशेष पिछड़ी जनजाति के उम्मीदवारों को नियुक्ति देने सहमति प्रदान की गई है।

उन्होंने कहा कि एक करोड़ 26 लाख 16 हजार 52 डिजिटल लेमिनेटेड जाति प्रमाण-पत्र बनाये गये हैं। राज्य में नि:शक्तजनों के पदों पर 655 अस्थि-बाधित, 132 दृष्टि-बाधित और 132 श्रवण-बाधितों को लाभान्वित करने के लिये विशेष अभियान चलाया जा रहा है।

श्री लाल सिंह आर्य ने कहा कि मंत्रालय में एक ही फ्लोर पर विभागवार बैठने की सुविधा, फाइल ट्रेकिंग सिस्टम जैसे कार्य की प्रक्रिया तेजी से चल रही है। मंत्रालय में ई-ऑफिस प्रणाली शुरू करने का काम किया है। स्थानांतरण के लिये ऑनलाइन आवेदन देने का कार्य भी शुरू कर दिया है। पारदर्शिता के लिये जन-सुनवाई, परख जैसे कार्यक्रम निरंतर हैं।

सभी शासकीय सेवकों के गोपनीय प्रतिवेदन को भी ऑनलाइन किये जाने की व्यवस्था की गई है। स्थाई निवासी प्रमाण-पत्र अब 7 दिन की जगह एक दिन में उपलब्ध हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि सुशासन के एक नहीं कई मापदण्ड तय किये हैं।

श्री आर्य ने कहा कि कार्यभारित कर्मचारियों पर भी राज्य सरकार ने ध्यान दिया है। प्रदेश के 60 हजार कर्मचारियों को अनुकम्पा नियुक्ति का प्रावधान, क्रमोन्नति, समयमान वेतनमान का लाभ देने का काम भी किया गया है। 48 हजार कर्मचारियों को स्थाईकर्मी का दर्जा देकर उन्हें महँगाई भत्ता और अर्द्ध-वार्षिक आयु पूरी होने पर ग्रेच्युटी देने का काम भी सरकार ने किया है। राज्य सरकार ने अनुकम्पा नियुक्ति में सरलीकरण कर गोद लिये बच्चों और शादीशुदा बेटी को भी अनुकम्पा नियुक्ति का अधिकार दिया गया है।

राज्य मंत्री ने कहा कि प्रदेश में लगभग 750 स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों को 25 हजार रुपये प्रतिमाह की दर से भत्ते दिये जा रहे हैं। वर्तमान में 2 हजार 604 लोकतंत्र सेनानियों को भी लाभान्वित किया जा रहा है।

श्री आर्य ने कहा कि नवी मुम्बई में राज्य अतिथि-गृह की व्यवस्था की जा रही है। नई दिल्ली के चाणक्यपुरी में 1.47 एकड़ के भू-खण्ड पर मध्यप्रदेश भवन निर्माण का कार्य किया जा रहा है। मानव अधिकार आयोग में पिछले साल प्राप्त 7777 शिकायतों में से 6144 शिकायतों का निराकरण किया गया है। प्रशासन अकादमी के जरिये तृतीय श्रेणी कर्मचारियों को भी प्रशिक्षित करने का काम किया जा रहा है। इसमें वल्लभ भवन के कर्मचारियों को प्रशिक्षण प्राप्त हो चुका है।

श्री आर्य ने कहा कि आनंद विभाग में 46 हजार 47 स्वयंसेवक बिना मानदेय के काम करने के लिये पंजीकृत हुए हैं। जनवरी माह में 23 हजार ग्राम पंचायतों में आनंद उत्सव मनाया गया। उन्होंने कहा कि घरेलू अनुपयोगी सामान को गरीब वर्ग को उपलब्ध कराने में नागरिकों ने रुचि ली है। उन्होंने कहा कि राज्य आनंद संस्थान की सामान्य सभा में सरकार के अलावा देश के सामाजिक क्षेत्रों में आनंद से जुड़े गणमान्य लोग जैसे डॉ. प्रणव पण्‍ड्या, श्री अनुपम खेर आदि शामिल हैं। आनंद शिविर के लिये ईशा फाउण्डेशन (कोयम्बटूर) जैसी संस्थाओं से एमओयू किया गया है। श्री आर्य ने कहा कि प्रदेश के इंदौर और भोपाल विमान-तलों को अंतर्राष्ट्रीय स्तर का बनाने के लिये राज्य शासन प्रयासरत है।

राज्य मंत्री लाल सिंह आर्य के अनुदान माँगों पर चर्चा के जवाब के बाद उनके विभाग का बजट 634 करोड़ 97 लाख 85 हजार रुपये सर्व-सम्मति से पारित किया गया।

 



इस खबर को शेयर करें


Comments