Breaking News

हम-तो-मंदिर-की-सीढ़ी-के-मुरीद-हैं

अवधेश बजाज। ‘इम्तियाज नहीं तेरे सितम, मेरी जब्त में। तू हम पे, हम तुझ पे मुस्कुराये जाते हैं।’प्रधानमंत्री को समर्पित विचारों का आरम्भ किसी शेर से होना अजीब लग सकता है। फिर...
Jul 11, 2019