Breaking News

कमाई में श्रीलंका और चीन से से पीछे हैं भारतीय महिलाएं,पुरूषों से19 प्रतिशत कम मिलता है वेतन

वामा            Dec 30, 2021


मल्हार मीडिया डेस्क।

बात होती है जेंडर इक्वीलिटी की लेकिन भारत ही नहीं पूरी दुनिया में कई स्तरों पर जेंडर इक्वीलिटी सिर्फ बातों तक ही सिमटकर रह जाती है।

मसलन यदि महिलाओं की सिर्फ कमाई की ही बात करें तो लेटेस्ट मॉनस्टर सैलरी इंडेक्स 2020 के अनुसार, भारत में महिलाओं को पुरुषों के मुकाबले 19% कम वेतन मिलता है।

यानि कमाई के मामले में भारतीय महिलाएं चीन और श्रीलंका से पीछे हैं लेकिन पड़ोसी देशों से आगे। इसके मुताबिक एक ही काम के लिए पुरुषों को महिलाओं की तुलना में हर महीने करीब 12 हजार रुपए ज्यादा मिलते हैं।

देश की कमाई में महिलाओं की भागीदारी करीब 18 फीसदी है। ग्लोबल जेंडर इनइक्वालिटी की रिपोर्ट के अनुसार, भारत की लेबर इनकम में पुरुषों की 82 फीसदी हिस्सेदारी है।

इस रिपोर्ट में कहा गया है के अनुसार महिलाओं की आय का हिस्सा दो चीजों पर निर्भर करता है- किसी जगह पर कितनी महिलाएं काम कर रही हैं और उनको कितना वेतन मिल रहा है।

विश्व बैंक के अनुमान के अनुसार, भारत में पिछले 15 साल में महिलाओं की काम में भागीदारी 6 फीसदी कम हुई है। यह 2019 में 20 फीसदी थी।

2017 में जारी वर्ल्ड बैंक की एक रिपोर्ट के मुताबिक, कामकाजी महिलाओं की संख्या के हिसाब से भारत 131 देशों में से 120 वें पायदान पर है। यहां केवल 27 फीसदी महिलाएं कामकाजी हैं।

2017 में जारी वर्ल्ड बैंक की एक रिपोर्ट के मुताबिक, कामकाजी महिलाओं की संख्या के हिसाब से भारत 131 देशों में से 120 वें पायदान पर है। यहां केवल 27 फीसदी महिलाएं कामकाजी हैं।

इस रिपोर्ट के अनुसार, भारत के पड़ोसी देशों में लेबर इनकम में महिलाओं की हिस्सेदारी और भी कम है।

आंकड़ों के मुताबिक, महिलाओं की लेबर इनकम में हिस्सेदारी भूटान में 17%, बांग्लादेश में 6.9%, पाकिस्तान में 7.4% और अफगानिस्तान में सिर्फ 4.2% फीसदी ही है। वहीं श्रीलंका में यह आंकड़ा 23% और चीन में 33% है।

रिपोर्ट में साल 1991 से 2019 के बीच दुनिया के 180 देशों शामिल किया गया।जिसमें पाया गया कि भारत में महिलाओं की भागीदारी पूरे एशिया में काम करने वाली महिलाओं के मुकाबले भी कम है। 2019 के डाटा के अनुसार वर्कप्लेस पर महिलाएं सिर्फ 27 % थी। वहीं, बात 1990 की करें तो उस समय महिलाओं की वर्कफोर्स में भागीदारी ज्यादा था। कुल आय में महिलाओं की हिस्सेदारी 1990 में 30% के करीब थी और आज यह 34% है।

 


Tags:

जेंडर-इक्वीलिटी महिलाओं-की-आय-का-हिस्सा लेबर-इनकम भारत-131-देशों-में-से-120-वें-पायदान-पर

इस खबर को शेयर करें


Comments