Breaking News

कॉमनवेल्थ लॉन बॉल में भारतीय महिला टीम ने रचा इतहास, पहली बार मिला गोल्ड

वामा, स्पोर्टस, खास खबर            Aug 02, 2022


मल्हार मीडिया डेस्क।
भारतीय महिला लॉन बॉल टीम ने इतिहास रच दिया है। उसने पहली बार राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक हासिल किया। इस टीम में लवली चौबे, पिंकी, नयनमोनी सैकिया और रूपा रानी टिर्की की चौकड़ी शामिल है।

चारों ने मिलकर पहले सेमीफाइनल में मजबूत न्यूजीलैंड को बाहर किया और फिर फाइनल में दक्षिण अफ्रीका को 17-10 से हरा दिया।

भारत का लॉन बॉल में यह पहला पदक है। वहीं, देश को बर्मिंघम में चौथा स्वर्ण पदक हासिल हुआ है। भारत ने तीन रजत और तीन कांस्य भी जीते हैं। इस तरह कुल 10 पदक उसके नाम हैं।

भारतीय महिला टीम ने एक समय मैच में 8-2 की बढ़त हासिल कर ली थी। ऐसा लग रहा था कि उसके लिए स्वर्ण जीतना आसान होगा। आठवें एंड में दक्षिण अफ्रीका ने वापसी की। इसके बाद से उसने छह अंक हासिल कर मैच को 8-8 की बराबरी पर ला दिया।

फिर उसने 11वें एंड में दो अंक और हासिल कर मैच में 10-8 की बढ़त ले ली। दक्षिण अफ्रीकी टीम मैच में आगे बढ़ती हुई दिख रही थी। 12वें एंड में भारतीय टीम ने दो अंक हासिल कर मैच को बराबर कर दिया। यहां उसने विपक्षी टीम को कोई मौका नहीं दिया और लगातार सात अंक जीतकर मैच को 17-10 से जीत लिया।

लॉन बॉल में भारत का पहला मैच इंग्लैंड के खिलाफ था। इस मैच में भारतीय टीम कुछ खास नहीं कर पाई थी और उसे 9-18 के अंतर से हार का सामना करना पड़ा था।

भारत ने अब तक इस खेल में कोई पदक नहीं जीता था। ऐसे में इस हार के साथ ही भारतीय खिलाड़ियों से पदक की उम्मीद खत्म हो गई थी।

कुक आइसलैंड के खिलाफ दूसरे मैच में भारतीय महिला टीम ने शानदार वापसी की और 15-9 के अंतर से यह मुकाबला अपने नाम किया। इस मैच में जीत के बावजूद किसी को भारतीय टीम से पदक की उम्मीद नहीं थी, लेकिन खिलाड़ियों का आत्मविश्वास बढ़ चुका था।

तीसरे मैच में भारतीय टीम ने कनाडा को 17-7 के अंतर से मात दी। इसके साथ ही महिला टीम पदक की रेस में आ चुकी थी।

क्वार्टर फाइनल मैच में भारतीय टीम ने नॉरफोल्क आइसलैंड को 17-9 से हराया। इस शानदार जीत के बाद इस बात की संभावना मजबूत हो गई थी कि टीम इंडिया कोई न कोई पदक लेकर जाएगी।

सेमीफाइनल मैच में भारतीय टीम ने न्यूजीलैंड की टीम को 16-13 के करीबी अंतर से हराकर बड़ा उलटफेर किया। इस मैच में भारतीय टीम की जीत की संभावना बेहद कम थी।

भारतीय टीम शुरुआत में पिछड़ी, लेकिन बाद में शानदार वापसी कर जीत हासिल की। इसके साथ ही भारत ने फाइनल में जगह बना ली और पदक पक्का कर लिया।

फाइनल मैच में भारत का सामना दक्षिण अफ्रीका से था और सभी देशवासियों को महिला टीम से स्वर्ण की उम्मीद थी। भारतीय खिलाड़ियों ने उम्मीद के अनुसार ही प्रदर्शन किया और दक्षिण अफ्रीका को 17-10 से हराकर फाइनल मैच अपने नाम किया।

 



इस खबर को शेयर करें


Comments