Breaking News

भाजपा विधायक रामेश्वर शर्मा का कमलनाथ पर आरोप,देश को हिंसा और अराजकता में झौंकना चाहतें हैं

समाचार, प्रदेश लार्इव            Sep 19, 2018


मल्हार मीडिया भोपाल।
मध्यप्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष कमलनाथ इस प्रदेश को आतंक और अराजकता के माहौल में धकेलना चाहतें है। उनके द्वारा निरंतर की जा रही हरकतों से यह सिद्ध होता है कि भय, भूख, जातिवाद और भ्रष्टाचार के अपने परंपरागत हथियार को इस्तेमाल करते हुए कांग्रेस सत्ता में आने के लिए छटपटा रही है लेकिन मध्यप्रदेश सदैव शांति का टापू रहा है और रहेगा। भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता श्री कमलनाथ के हिंसक रवैये को कामयाब नहीं होने देंगे।

यह बात आज एक पत्रकार वार्ता में भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष और विधायक श्री रामेश्वर शर्मा ने कही। उन्होंने कहा कि कमलनाथ ने मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान पर पथराव को आगे भी हमले होने संबंधी जो बयान दिया है वह स्पष्ट करता है कि मुख्यमंत्री जी की जनआशीर्वाद यात्रा को मिल रहे भारी भरकम समर्थन से कांग्रेस बौखला गयी है और जब उसके सामने लोकतांत्रिक तरीके से प्रतिकार करने का रास्ता नहीं बचा है तो वह हिंसा के रास्ते पर उतर आयी है।

उन्होंने कहा कि श्री कमलनाथ का हिंसा को निरंतर जारी रखने का बयान यह साफ साफ बताता है कि भले ही मध्यप्रदेश के लोगों ने उन्हें बार-बार सांसद बनाकर अपने बडे दिल का परिचय दिया हो लेकिन कमलनाथ पश्चिम बंगाल की तोड़फोड़, आगजनी, लूटपाट और हत्याएं करने वाले राजनैतिक कुसंस्कारों को भूल नहीं पाए है। वे मध्यप्रदेश को भी पश्चिम बंगाल जैसी राजनैतिक हिंसा में झौंकना चाहतें है। लेकिन हम स्पष्ट करना चाहते है कि भारतीय जनता पार्टी का कार्यकर्ता और मध्यप्रदेश की साढ़े सात करोड़ जनता श्री कमलनाथ के हिंसक व्यवहार का ऐसा लोकतांत्रिक जवाब देगी कि उन्हें मध्यप्रदेश तो क्या छिंदवाडा में भी टिकने का स्थान नहीं मिलेगा।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने मध्यप्रदेश को हिंसा की आग में झौंकने का काम एक डेढ़ वर्ष पहले किसान आंदोलन की आड़ में ही कर दिया था। कथित किसान आंदोलन के दौरान कांग्रेसियों ने खुलेआम आगजनी, लूटपाट करायी, सड़कों पर कांग्रेस के विधायकों और जिम्मेदार पदाधिकारियों ने गाली गलौच की। इसके प्रमाण समूचे मध्यप्रदेश के पास है। बांटो और राज करो की नीति में कांग्रेस अंग्रेजों से भी आगे निकल गयी है। बरसों तक कांग्रेस ने दंगा, फसाद, जातिगत वैमनस्य भडकाकर ही देश में शासन किया है और पिछले कर्नाटक चुनाव तक लिंगायतों को लेकर जिस प्रकार की घटिया राजनीति की उसे आज की पीढी ने भी देखा है।

श्री शर्मा ने बताया कि श्री कमलनाथ के बयानों से आ रहे खतरनाक संकेतों को लेकर भारतीय जनता पार्टी चुनाव आयोग को शिकायत करेगी और आयोग से आग्रह करेगी कि कांग्रेस और उसके अध्यक्ष द्वारा निरंतर की जा रही उकसावे की कार्यवाही को ध्यान में रखते हुए समूचित सुरक्षा प्रबंध किए जाए और शांतिपूर्वक चुनाव संपन्न कराने के लिए आवश्यक कानूनी कार्यवाही की जाए।

 



इस खबर को शेयर करें


Comments