Breaking News

विधानसभा में मुख्यमंत्री योगी ने अखिलेश को लिया आड़े हाथ, ममता, केजरीवाल, ठाकरे को भी बनाया निशाना

राजनीति, उत्तरप्रदेश            May 27, 2022


मल्हार मीडिया ब्यूरो लखनउ।
उत्तर प्रदेश विधानसभा में शुक्रवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विपक्ष के नेता अखिलेश यादव को आड़े हाथ लिया।

यह तो अंदाजा था ही कि वह राज्यपाल के अभिभाषण पर चर्चा के दौरान नेता प्रतिपक्ष की ओर से उठाए गए सवालों का जवाब देंगे। हुआ भी वही।

मुख्यमंत्री ने विधानसभा जब विपक्ष और खासकर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव को जवाब देना शुरू किया तो उन्होंने दिल्ली, बंगाल से लेकर महाराष्ट्र तक निशाना साधा।

अखिलेश के साथ—साथ लपेटे में ममता बनर्जी, उद्धव ठाकरे और केजरीवाल की सरकार भी आई।

मुख्यमंत्री ने चुनाव बाद हिंसा को लेकर जहां बंगाल का ब्यौरा पेश किया तो कोरोना महामारी से जंग में अपनी सरकार की सफलता बताने के लिए महाराष्ट्र और दिल्ली के आंकड़ों का सहारा लिया।

सीएम योगी ने प्रदेश में पिछले 5 साल में हुए चुनावों का जिक्र करते हुए कहा कि यहां चुनाव शांतिपूर्ण तरीके से हुए हैं। यहां चुनाव के बाद कोई हिंसा नहीं हुई। उन्होंने लगे हाथ पश्चिम बंगाल में चुनाव बाद हुई हिंसा का हिसाब भी पेश कर दिया।

विधानसभा चुनाव में सपा के लिए वोट मांगने आईं ममता बनर्जी का नाम लिए बिना योगी ने कहा कि बंगाल से एक दीदी आईं थीं। चुनाव बाद वहां (बंगाल) हिंसा की 12 हजार घटनाएं हुईं थीं। 294 विधानसभा सीटों में से 142 पर हिंसा की घटनाएं हुईं थीं। 25 हजार बूथ प्रभावित हुए। भाजपा के 10 हजार से अधिक कार्यकर्ता सेल्टर होम में जाने को मजबूर हुए थे। 57 की हत्या हुई, 123 से अधिक महिलाओं के साथ अमानवीयता हुई। उन्होंने यह भी याद दिलाया कि बंगाल की आबादी यूपी के मुकाबले आधी है।

कोरोना महामारी को लेकर अखिलेश यादव की ओर से उठाए गए सवालों का जवाब देते हुए सीएम योगी ने बताया कि किस तरह उनकी सरकार ने सफलतापूर्वक इसका सामना किया।

उन्होंने विपक्ष की भूमिका पर भी सवाल उठाए और कहा कि सबको पीएम मोदी के साथ मिलकर देश की लड़ाई को आगे बढ़ाना चाहिए था।

विपक्ष राजनीतिक करने से नहीं चूका। लॉकडाउन के दौरान लोगों को मदद देने में विपक्ष के नेता और उसके कार्यकर्ता गायब थे। केवल भारतीय जनता पार्टी ने ही पीएम मोदी के कहने पर सेवा ही संगठन है के मंत्र के साथ घर-घर पहुंचा।

सीएम ने यूपी के कोरोना केसों की दिल्ली, महाराष्ट्र से लेकर अमेरिका और ब्राजील तक से की। उन्होंने कहा कि यूपी की आबादी 25 करोड़ है।

अब तक 20.54 लाख लोग रिकवर हो चुके हैं। 2 साल में कुल 23,519 लोगों की मौत हुई। 11 करोड़ से ज्यादा टेस्ट किए गए। 32 करोड़ टीके के डोज लगाए गए। प्रदेशभर में 209 लैब बनाए। आज प्रतिदिन 4 लाख टेस्टिंग की क्षमता है। 1.61 लाख बेड उपलब्ध हैं।

सीएम योगी ने यूपी के कोरोना डेटा की तुलना पहले महाराष्ट्र से की, उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र का यदि मैं जिक्र करूं, इनके मित्र कभी-कभी यहां आते हैं।

चुनाव में भी मदद करने आए थे। महाराष्ट्र की कुल जनसंख्या है 12 करोड़ 57 लाख। यानी यूपी से आधी।

हमारे यहां केस हुए 20 लाख 54 हजार। महाराष्ट्र में 78 लाख 83 हजार। मौतें हुईं 1 लाख 47 हजार। यूपी से आधी आबादी और मौतों यूपी से कहीं ज्यादा। कुल टीकाकरण वहां हुआ है 16 कोरड़ 65 लाख।

सीएम योगी ने आगे कहा कि इनके दूसरे इनके मित्र हैं दिल्ली में, जिन्होंने यूपी और बिहार के श्रमिकों और नौजवानों को बाहर कर दिया था। कुल आबादी है 3 करोड़। केस हुए 18 लाख, मौतों हुईं 26 हजार। टीकाकरण 3 करोड़ 41 लाख।

अब दुनिया का भी इन्हें बता दें जहां से हमारे नेता प्रतिपक्ष ने इन्फ्रास्ट्रक्चर देखा है। इन्हें लगता था वहां का एक्सप्रेसवे अच्छा है।

यूएस में कुल आबादी है 33 करोड़। 8 करोड़ 37 लाख केस। 10 लाख से ज्यादा मौतें। ब्राजील 21 करोड़ आबादी, केस 3 करोड़ 2 लाख 52 हजार। मौतें हुईं 6 लाख 62 हजार।

 



इस खबर को शेयर करें


Comments