Breaking News

खरी-खरी

राघवेंद्र सिंह।मध्यप्रदेश की राजनीति खासतौर से भाजपा में इन दिनों अजीब सा दौर है। तूफानी हलचल कहें या तूफान के आने के पहले की खामोशी। किसी के समझ में कुछ ज्यादा नहीं आ रहा...
Aug 21, 2017

पुण्य प्रसून बाजपेयी।14-15 अगस्त 1947, दुनिया के इतिहास में एक ऐसा वक्त जब सबसे ज्यादा लोगों ने एक साथ सीमा पार की, एक साथ शरणार्थी होने की त्रासदी को झेला, एक साथ मौत देखी...
Aug 16, 2017

मनोज कुमार।हर बार की तरह एक बार फिर हम स्वाधीनता पर्व मनाने जा रहे हैं। हर बार की तरह हम सबकी जुबान पर शिकायत होगी कि आजादी के 70 सालों के बाद भी हम...
Aug 15, 2017

राघवेंद्र सिंह।भारत गांवों का देश है और देहात में एक कहावत आम है जननी जने तो भक्तजन, के दाता के शूर, नहीं तो काहे गंवावत नूर अर्थात माता यदि पुत्र पैदा करे तो वह...
Aug 14, 2017

राकेश अचल।अस्सी साल के निवर्तमान उप राष्ट्रपति श्री हामिद अंसारी अचानक देशभक्तों के लिए परेशानी का सबब बन गए हैं। अपने विदाई भाषण में श्री अंसारी ने अल्पसंख्यकों की स्थिति के बारे...
Aug 11, 2017

राघवेंद्र सिंह।एक कहावत है अच्छी बातें तो बुरे लोग भी करते हैं। इसलिये आदमी बातों से नहीं अपने कर्मों से पहचाना जाता है। यह कहावत राजनैतिक, सामाजिक, प्रशासनिक से लेकर मीडिया कर्मियों पर भी...
Aug 01, 2017

डॉ. प्रकाश हिंदुस्तानी। नीतीश को कब पता चला कि लालू भ्रष्ट हैं? बिहार में बहार है, भ्रष्टाचार है, हत्याचार है, दरार है, तकरार है, नए गठबंधन का आविष्कार है, पर नीतीश कुमार है। इस्तीफा...
Jul 27, 2017

डॉ. राकेश पाठक इंसानियत के दुश्मनों,तुम्हें दोज़ख की आग में जलना होगा!अमरनाथ यात्रा पर हमला कर बेगुनाहों के खून से हाथ रंगने वालो कान खोल कर सुन लो...तुम्हें अपने एक एक जुल्म...
Jul 11, 2017

राघवेंद्र सिंह।देश में इन दिनों राष्ट्रवाद और आक्रामक देशभक्ति की लहर है वजह है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इजरायल यात्रा और उससे उपजे नये समीकरण। इजरायल दुनिया का इकलौता ऐसा देश है जो चौतरफा...
Jul 10, 2017

राघवेंद्र सिंह। मुझे लगता है मध्यप्रदेश को किसी की नजर लग गई है। कुछ अच्छा घटित नहीं हो रहा है। कृषि बेहतर उत्पादन के बाद भी बेहाल, अन्नदाता आत्महत्या कर रहा है। नौकरशाही की...
Jul 04, 2017