Breaking News

खरी-खरी

राकेश दुबे।यह कितनी बुरी बात है कि आज़ादी के इतने बरस बाद भी भारत में लोग भाषा और प्रदेश के नाम से जाने जा रहे हैं। भारतीय होने से पहले लोगों को उनकी भाषा...
Oct 13, 2018

राम विद्रोही।पक्का है अब हाथी गली-गली घूमेगा, साइकल अलग पटरी पर चलेगी। इनके अलावा भी गोगपा, सपाक्स, जयस आदि बहुत सारे दल चुनाव मैदान में होंगे। मतलब इस बार के विधान सभा चुनाव में...
Oct 13, 2018

राकेश दुबे।महाराष्ट्र की अलगवावादी हवा गाँधी के गुजरात को भी लग गई। भाषाई आधार पर दूसरे प्रदेश के लोग खदेड़े जा रहे हैं, और साहेब दिल्ली में बीन बजा रहे हैं। इस पलायन के...
Oct 08, 2018

वीरेंद्र शर्मा।समाज के प्रति प्रतिबद्धता कभी पदों की मोहताज नहीं होती। इसका सबसे बड़ा उदाहरण इटली के एकीकरण में महत्वपूर्ण निभाने वाला प्रसिद्ध क्रांतिकारी जुज़ॅप्पे गैरीबाल्डी है। विजय के बाद बिना किसी पद की...
Oct 05, 2018

राकेश दुबे।चुनाव जो न कराए थोडा है। कांग्रेस हो या भाजपा दोनों ही प्रदेश में धार्मिक हो गई है।दोनों का लक्ष्य एन- केन- प्रकारेण चुनाव जीतना है चाहें उसके लिए कुछ भी कहना सुनना और...
Oct 05, 2018

राकेश दुबे।द टाइम्स हायर एजूकेशन द्वारा जारी ताजा सूची में बेहतरीन 250 विश्वविद्यालयों में किसी भी भारतीय संस्थान को जगह नहीं मिल सकी है, वैश्विक स्तर पर हमारी स्थिति बहुत संतोषजनक नहीं है। हालांकि विभिन्न...
Oct 02, 2018

हेमंत झा।यही वह वर्ग है जिसने भाजपा की राजनीतिक सफलताओं को आधारभूमि उपलब्ध कराई। इस संदर्भ में इन लोगों ने जातीय ध्रुवीकरण को भी नकारा। सवर्णों की तो कोई बात ही नहीं, शहरों में...
Oct 01, 2018

राकेश दुबे।देश के सर्वोच्च न्यायालय ने ३ बड़े मसले कल सुलझा दिए। आज एक और बड़े फैसले का इंतजार हो रहा है। राजनीति हर फैसले की व्याख्या अपनी सुविधा के अनुसार करती है। इस बार...
Sep 27, 2018

राकेश दुबे।देश के विषय राजनीति में खोते जा रहे हैं। देश के सारे राजनीतिक दल चुनाव से अलग कुछ और नहीं सोचा पा रहे हैं। देश का हंगर इंडेक्स २०१७ में और नीचे खिसक...
Sep 26, 2018

राकेश दुबे।सर संघचालक मोहन भागवत के ताज़ा उद्बोधन के बाद यह सवाल उठने लगा है कि आज का राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ बीते कल के राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से भिन्न है? यह सवाल उठना लाजिमी है...
Sep 25, 2018